क्या आप 2023 में भारत के रईस अम्बानी और अडानी के बीच के अंतर को जानते है? (with table) | 12 Difference Between Ambani and Adani | Ambani vs Adani

क्या आप 2023 में भारत के रईस अम्बानी और अडानी के बीच के अंतर को जानते है? (with table), 12 Difference Between Ambani and Adani in Hindi, Ambani vs Adani – मुकेश अंबानी और गौतम अडानी भारत के दो सबसे प्रमुख बिजनेस टाइकून हैं। वे दोनों अरबपति हैं और उन्होंने अपने-अपने क्षेत्रों में बड़े व्यापारिक साम्राज्य बनाए हैं। जबकि दोनों के बीच समानताएं हैं, कुछ उल्लेखनीय अंतर भी हैं।

अम्बानी के बारे में (About Ambani)

मुकेश अंबानी एक भारतीय बिजनेस मैग्नेट और Reliance Industries Limited (RIL) के अध्यक्ष हैं, जो पेट्रोकेमिकल, रिफाइनिंग, तेल और गैस की खोज, दूरसंचार, मीडिया और मनोरंजन और रिटेल सहित कई क्षेत्रों में काम करते है।

उनका जन्म 19 अप्रैल, 1957 को अदन, यमन में हुआ था, लेकिन वे मुंबई, भारत में पले-बढ़े। मुंबई में इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी में केमिकल इंजीनियरिंग में अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, वह 1981 में रिलायंस इंडस्ट्रीज में शामिल हो गए। उनके नेतृत्व में, कंपनी भारत के सबसे बड़े और सबसे अधिक लाभदायक कारपोरेशन में से एक बन गई है।

2021 तक, मुकेश अंबानी दुनिया के सबसे धनी लोगों में से एक हैं, जिनकी कुल संपत्ति 84 बिलियन डॉलर से अधिक है। उन्हें उनकी परोपकारी गतिविधियों के लिए भी जाना जाता है, खासकर शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और ग्रामीण विकास के क्षेत्रों में। रिलायंस ग्रुप के बारे में ज्यादा जानने के लिए विजिट करे – रिलायंस ग्रुप

ये भी पढ़े – 5 Difference Between Factory, Industry and Company in Hindi 2023 (with table)

अडानी के बारे में (About Adani)

गौतम अदानी एक भारतीय अरबपति उद्योगपति हैं और अहमदाबाद, गुजरात, भारत में मुख्यालय वाली कंपनियों के एक समूह अदानी समूह के अध्यक्ष और संस्थापक हैं। अडानी समूह बंदरगाहों, लोजिस्टिक्स बिजली उत्पादन, कोयला खनन, तेल और गैस की खोज और नवीकरणीय ऊर्जा सहित कई उद्योगों में काम करते है।

अडानी समूह को ऑस्ट्रेलिया और संयुक्त राज्य अमेरिका सहित कई देशों में उपस्थिति के साथ भारत में सबसे बड़े समूहों में से एक माना जाता है। 2021 तक, गौतम अडानी भारत के सबसे धनी लोगों में से एक हैं, जिनकी कुल संपत्ति $53 बिलियन से अधिक होने का अनुमान है। अडानी ग्रुप के बारे में ज्यादा जानने के लिए विजिट करे – अडानी ग्रुप

अम्बानी और अडानी के बीच के अंतर (Difference Between Ambani and Adani in Hindi)

Ambani vs Adani – आज हम दोनों उद्योगपतियों के बीच के अंतर को निम्नलिखित 12 बिन्दुओं के माध्यम से जानेंगे –

तुलना का आधार
Basis of Comparison

अम्बानी

Ambani

अडानी
Adani

पृष्ठभूमि
Background

मुकेश अंबानी दिवंगत धीरूभाई अंबानी के पुत्र हैं, जिन्होंने रिलायंस समूह की स्थापना की थी। 2002 में अपने पिता की मृत्यु के बाद मुकेश अंबानी ने कंपनी की बागडोर संभाली। अंबानी के शुरुआती व्यापारिक उद्यम कपड़ा में थे, लेकिन बाद में उन्होंने पेट्रोकेमिकल्स, रिफाइनिंग और दूरसंचार में विविधता ला दी।

दूसरी ओर, गौतम अडानी ने अपना करियर डायमंड सॉर्टर के रूप में शुरू किया और 1988 में अदानी समूह की स्थापना की। समूह ने शुरुआत में कमोडिटी ट्रेडिंग के साथ शुरुआत की, लेकिन बाद में बंदरगाहों, रसद और ऊर्जा क्षेत्रों में इसका विस्तार हुआ।

शिक्षा
Education

मुकेश अंबानी ने मुंबई में इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी से केमिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री पूरी की। बाद में उन्होंने यूएसए में स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से एमबीए किया।

दूसरी ओर, गौतम अडानी के पास औपचारिक डिग्री नहीं है। उन्होंने अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए कॉलेज छोड़ दिया।

कारोबार
Business Ventures

मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज भारत के सबसे बड़े समूह में से एक है। समूह पेट्रोकेमिकल्स, रिफाइनिंग, तेल और गैस की खोज, रिटेल और दूरसंचार जैसे विभिन्न क्षेत्रों में काम करता है। Reliance के Jio Infocomm ने अपने कम-लागत वाले डेटा प्लान के साथ भारतीय दूरसंचार उद्योग में हलचल मचा दी है।

गौतम अडानी का अदानी समूह बंदरगाहों, लोजिस्टिक्स, बिजली उत्पादन और उसका ट्रांसमिशन नवीकरणीय ऊर्जा और कृषि व्यवसाय जैसे विविध क्षेत्रों में काम करता है। समूह ने हवाई अड्डों और राजमार्गों सहित बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में भी भारी निवेश किया है।

नेतृत्व शैली
Leadership Style

मुकेश अंबानी अपनी व्यावहारिक प्रबंधन शैली के लिए जाने जाते हैं और अपनी कंपनियों के दिन-प्रतिदिन के कार्यों में शामिल रहते हैं। वह अपनी लॉन्ग टर्म दृष्टि और नवाचार या इनोवेशन पर ध्यान केंद्रित करने के लिए भी जाने जाते हैं।

दूसरी ओर, गौतम अडानी अपने प्रतिनिधिमंडल कौशल या डेलीगेशन स्किल और कंपनी चलाने के लिए अपने शीर्ष अधिकारियों को सशक्त बनाने की क्षमता के लिए जाने जाते हैं। वह व्यापार के अवसरों को शीघ्रता से पहचानने और जब्त करने की अपनी क्षमता के लिए भी जाने जाते हैं।

व्यापार रणनीति
Business Strategy

मुकेश अंबानी की व्यावसायिक रणनीति वर्टीकल इंटीग्रेशन पर केंद्रित है, जहां वह कच्चे माल से लेकर अंतिम उत्पाद तक आपूर्ति श्रृंखला के हर पहलू को नियंत्रित करना चाहते हैं। इस रणनीति ने उन्हें लागत कम करने और दक्षता बढ़ाने की अनुमति दी है।

दूसरी ओर, गौतम अडानी की व्यावसायिक रणनीति हॉरिजॉन्टल इंटीग्रेशन पर केंद्रित है, जहां वे जोखिम को कम करने और नए अवसरों को भुनाने के लिए विभिन्न क्षेत्रों में अपने व्यवसायों में विविधता लाने का प्रयास करते हैं।

विशेषज्ञता का क्षेत्र
Area of Expertise

मुकेश अंबानी की विशेषज्ञता का क्षेत्र ऊर्जा और पेट्रोकेमिकल क्षेत्रों में है। उन्होंने रिलायंस इंडस्ट्रीज को एक कपड़ा कंपनी से पेट्रोकेमिकल्स, रिफाइनिंग, तेल और गैस की खोज, रिटेल और दूरसंचार में हितों के साथ एक वैश्विक समूह में बदल दिया है।

गौतम अडानी की विशेषज्ञता लॉजिस्टिक्स और इंफ्रास्ट्रक्चर में है। उन्होंने अदानी समूह को बंदरगाहों, लोजिस्टिक्स, बिजली उत्पादन, ट्रांसमिशन, नवीकरणीय ऊर्जा और कृषि व्यवसाय में रुचि रखने वाले एक विविध समूह बनाया है। उन्होंने हवाई अड्डों और राजमार्गों जैसी बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में भी भारी निवेश किया है।

नवाचार के लिए दृष्टिकोण
Approach to Innovation

मुकेश अंबानी इनोवेशन और टेक्नोलॉजी पर फोकस के लिए जाने जाते हैं। उनके नेतृत्व में, रिलायंस इंडस्ट्रीज ने नई तकनीकों को विकसित करके पारंपरिक उद्योगों के पुराने तरीको को तकनीक की मदद से नए तरीके में बदल दिया है जिसमे उन्होंने भारी निवेश किया है। उदाहरण के लिए, Jio Infocomm ने अपने कम-लागत वाले डेटा प्लान के साथ भारतीय दूरसंचार उद्योग में हलचल मचा दी है।

नवाचार के लिए गौतम अडानी का दृष्टिकोण अपने मौजूदा व्यवसायों की दक्षता और प्रभावशीलता में सुधार के लिए नई तकनीकों को अपनाने पर अधिक केंद्रित है। उदाहरण के लिए, अदानी समूह ने अपने कार्बन पदचिह्न को कम करने और स्थिरता में सुधार के लिए नवीकरणीय ऊर्जा में निवेश किया है।

व्यापार साम्राज्य का आकार
Size of Business Empire

मुकेश अंबानी और गौतम अडानी दोनों अरबपति हैं और उन्होंने सफल व्यापारिक साम्राज्य बनाए हैं, उनके संबंधित साम्राज्यों के आकार में अंतर है। मुकेश अंबानी की रिलायंस ग्रुप का बाजार पूंजीकरण लगभग 194.5 बिलियन डॉलर है, जो इसे भारत की सबसे मूल्यवान कंपनी बनाता है।

गौतम अदानी के अदानी समूह का बाजार पूंजीकरण लगभग 134 बिलियन डॉलर है, जो इसे भारत की दूसरी सबसे मूल्यवान कंपनी बनाता है।

संपत्ति
Wealth

फोर्ब्स की रियल-टाइम बिलियनेयर्स लिस्ट के अनुसार, मुकेश अंबानी भारत के सबसे अमीर व्यक्ति हैं और दुनिया के 9 सबसे अमीर लोगों में से एक हैं, जिनकी कुल संपत्ति लगभग 84 बिलियन डॉलर है। उनकी अधिकांश संपत्ति उनके रिलायंस इंडस्ट्रीज के स्वामित्व से आती है।

गौतम अडानी की कुल संपत्ति लगभग 53 बिलियन डॉलर है, जो उन्हें भारत का दूसरा सबसे अमीर व्यक्ति बनाती है। उनकी संपत्ति मुख्य रूप से अडानी समूह के स्वामित्व से आती है।

अंतर्राष्ट्रीय उपस्थिति
International Presence

मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज की तेल और गैस, पेट्रोकेमिकल और दूरसंचार क्षेत्रों में वैश्विक उपस्थिति है। इसने अपनी सहायक कंपनी Jio Platforms के माध्यम से प्रौद्योगिकी और ई-कॉमर्स में भी भारी निवेश किया है।

गौतम अडानी के अदानी समूह की भारत में मजबूत उपस्थिति है और इसने ऊर्जा और बुनियादी ढांचे के क्षेत्रों में विश्व स्तर पर विस्तार किया है। हालाँकि, इसकी अंतर्राष्ट्रीय उपस्थिति रिलायंस इंडस्ट्रीज की तुलना में अपेक्षाकृत कम है।

परोपकार
Philanthropy

मुकेश अंबानी और गौतम अडानी दोनों परोपकार में शामिल हैं। मुकेश अंबानी ने रिलायंस फाउंडेशन की स्थापना की है, जो शिक्षा, स्वास्थ्य, ग्रामीण विकास और आपदा प्रतिक्रिया पर केंद्रित है। फाउंडेशन ने भारत के विभिन्न हिस्सों में अस्पताल और स्कूल भी स्थापित किए हैं।

गौतम अडानी ने अदानी फाउंडेशन की स्थापना की है, जो शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और स्थायी आजीविका जैसे क्षेत्रों में काम करता है। फाउंडेशन ने ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए कई पहल की हैं।

व्यक्तिगत जीवन
Personal Life

मुकेश अंबानी अपनी असाधारण जीवन शैली के लिए जाने जाते हैं और मुंबई में उनका 27 मंजिला घर एंटीलिया दुनिया के सबसे महंगे निजी आवासों में से एक है। वह कला के संरक्षक भी हैं और विभिन्न सांस्कृतिक पहलों का समर्थन करते हैं।

दूसरी ओर, गौतम अडानी एक लो प्रोफाइल रहते हैं और अपनी सरल और विनम्र जीवन शैली के लिए जाने जाते हैं। वह एक फिटनेस उत्साही भी हैं और बैडमिंटन खेलना पसंद करते हैं।

ये भी पढ़े – पासपोर्ट और वीजा में अंतर | 9 Difference Between Passport and Visa in Hindi

निष्कर्ष (Conclusion)

अंत में, हालांकि मुकेश अंबानी और गौतम अडानी दोनों ही भारत में सफल व्यवसायी हैं, फिर भी दोनों के बीच महत्वपूर्ण अंतर हैं। जैसे की बताया अंबानी के व्यवसाय मुख्य रूप से ऊर्जा, दूरसंचार और रिटेल क्षेत्रों पर केंद्रित हैं, अडानी के पास एक विविध पोर्टफोलियो है जिसमें ऊर्जा, बुनियादी ढांचा, लोजिस्टिक्स और कृषि व्यवसाय शामिल हैं।

इसके अलावा, उनकी संबंधित व्यावसायिक रणनीतियाँ, प्रबंधन शैली और परोपकारी पहल भी भिन्न होती हैं। इन अन्तरो के बावजूद, अंबानी और अडानी दोनों ने भारत के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है और दोनों ही घराने व्यापारिक समुदाय में व्यापक रूप से सम्मानित हैं। आखिरकार, यह जटिल और गतिशील भारतीय बाजार को नेविगेट करने की उनकी क्षमता है जिसने उन्हें अपने संबंधित क्षेत्रों में ऐसी सफलता हासिल करने में सक्षम बनाया है।

हमे उम्मीद है इस पोस्ट से आप को अम्बानी और अडानी ग्रुप के अंतर (Difference Between Ambani and Adani in Hindi) के बारे में पता चला होगा! अगर इसके बाद भी अगर आपके मन में कोई सवाल है तो मेरे कमेंट बॉक्स में आकर पूछे। हम आपके सवालों का जवाब अवश्य देंगे।

तब तक के लिए धन्यवाद और मिलते हैं अगले आर्टिकल में!

ऐसे और भी रोचक अन्तरो को जानने के लिए बने रहिये हमारे साथ antarjano.com पर।

Leave a Comment