Chutney aur Achaar me Antar | 8 Difference Between Chutney and Achaar | Achaar vs Chutni

Chutney aur Achaar me Antar, 8 Difference Between Chutney and Achaar, Achaar vs Chutni – दोस्तो हम रोज़मर्रा में अपने खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए चटनी या अचार का प्रयोग तो करते हैं, और आज ये दोनो ही स्वद से दुनिया का दिल जीत रहे हैं।

अगर बात की जाए तो अचार फलो और सब्जियों से मिल कर बनाया जाता है, जिनमे छोटे छोटे टुकडो में कट दिया जाता है या कभी कभी पूरे को लम्बे समय तक सिरके में (निम्बू के रस) या नामक के पानी में डाल कर धूप में रखा जाता है, जिससे वो अच्छे से गल कर मिल जाये, जिनसे उनका स्वाद बढ़ जाये।

दूसरी ओर, चटनी एक चिकना पेस्ट है जो स्वाद में तीखा या मीठा होता है।जो सिरका, मसाले और चीनी के साथ फलों या सब्जियों से बनाया जाता है।

क्या आप में दोनो के बीच के अंतर को जानते है, अगर नही भी जानते है तो, आज हम आपके इनके बीच के ऐसे दिलचस्प अंतर बताने वाले जिसे पढ़कर आपका मिजाज भी चटनी और अचार की तरह खट्टा मीठा हो जाएगा।

चटनी और अचार में अंतर (Difference Between Chutney and Achaar)

चटनी अचार
चटनी में आमतौर पर प्रीज़रवेटिव नही डाले जाते हैं। अचार में प्राकृतिक या कृत्रिम प्रीज़रवेटिव होते हैं।
चटनी को पीस के बनाया जाता है इसीलिए ये थोड़ी गाढ़ी  और चिकनी होने के साथ एक जैसी दिखती है। अचार में फलों या सब्जियों के टुकड़े होते है मसालों और तेल के साथ।
चटनी को आमतौर पर या तो सील बट्टा की मदद से या इलेक्ट्रिक ब्लेंडर का उपयोग करके मिश्रित किया जाता है । अचार को धूप में सुखाया जाता है या इसमें पानी में भिगोने वाले प्रीज़रवेटिव होते हैं।
कुछ चटनीयों को पका कर बनाया जाता है अचार को बिना पकाएं बनाया जाता है
चटनी मूल रूप से भारत की डीश है। लेकिन इसे अब दुसरे देशो में अलग अलग तरीके से बनाया जाता है। अचार की उत्पत्ति भी भारत में ही हुई है, लेकिन अब हर देश के अपने-अपने प्रकार के अचार होते हैं।
चटनी अचार की तुलना में कम समय तक चलती है। मतलब इनकी शेल्फ लाइफ कम है। अचार चटनी की तुलना में अधिक समय तक चलता है। यह सालों तक भी चल सकता है।
चटनी अन्य पोषक तत्वों के साथ विटामिन से भरे हुए होते हैं और तेल का कम उपयोग इसे फैट-मुक्त बनाता है. वे एंटीऑक्सीडेंट में समृद्ध हैं अचार फॉस्फोरस, आयरन, मैग्नीशियम, सोडियम और पोटेशियम में प्रचुर मात्रा में है
चटनी शरीर को सभी विटामिन, खनिज और अन्य सूक्ष्म पोषक तत्वों के साथ भी आपूर्ति करते हैं, जो स्वस्थ जीवन को बनाए रखने के लिए आवश्यक हैं! यह शरीर को एंटीऑक्सिडेंट की आवश्यक मात्रा के साथ प्रदान करता है अचार के स्वास्थ्य लाभों में आवश्यक एंटीऑक्सिडेंट्स की आपूर्ति, प्रोबियोटिक जो आंत-अनुकूल एंटीबायोटिक्स हैं. पाचन में मदद करते हैं, एनीमिक लोगों में हीमोग्लोबिन के स्तर में सुधार करते हैं. कुछ अचार हैं, जो रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित करने में सहायता करते हैं और हेपेट्रोप्रोटेक्टीव गुण होते हैं.

चटनी क्या है?

chutney

चटनी एक हिंदी शब्द है और इसकी शुरुआत भारत से हुई। चटनी का मूल रूप से मतलब चाटना होता है। चटनी को साइड डिश के रूप में परोसा जाता है ताकि खाने का स्वाद बढ़ाया जा सके। इसे कई मसालों के साथ सब्जियों और फलों का उपयोग करके बनाया जाता है और फिर कुकर, सॉस पैन या मिक्सर में एक साथ मिश्रित किया जाता है।

चटनी में ज्यादा कैलोरी नहीं होती है। इसे घरों या होटल और रेस्टोरेंटो में ताजा बनाया जाता है। अधिकांश चटनी में किसी भी प्रकार के प्रीज़रवेटिव नहीं होते हैं। वे चटनी आर्गेनिक होती है और हमेशा स्वस्थ्य वर्धक होती हैं। चटनी को उनके प्रकार के आधार पर 1-2 महीने तक स्टोर किया जा सकता है जब तक कि वे खराब न हो जाएं। उन्हें कमरे के तापमान पर परोसा जाता है और आम तौर पर रेफ्रिजरेटर में संग्रहीत किया जाता है।

प्राचीन भारत में चटनी सब्जियों, फलों और मसालों को एक बड़े बर्तन में पीसकर बनाया जाता था। प्रसिद्ध प्रकार की चटनी में मूंगफली की चटनी, पुदीने की चटनी, धनिया की चटनी, टमाटर की चटनी, इमली की चटनी, आम की चटनी आदि शामिल हैं।

चटनी को समोसे, ब्रेड या नान , डोसा, सलाद, चिकन, मोमोज आदि जैसे भोजन के साथ परोसा जाता है। इसका उपयोग सैंडविच, रोल, रैप आदि के लिए भी किया जाता है।

अचार क्या है?

chutney vs achaar - antarjano

जैसा की बताया गया कि अचार फलो और सब्जियों से मिल कर बनाया जाता है, जिनमे फल और सब्जियों को छोटे छोटे टुकडो में काटा जाता है और फिर उन्हें लम्बे समय तक सिरके में (निम्बू के रस) या नामक के पानी में डाल कर धूप में रखा जाता है, जिससे वो अच्छे से गल कर मिल जाये, जिनसे उनका स्वाद बढ़ जाये।

अचार में आमतौर पर कच्ची और साबुत सब्जियां/फल शामिल होते हैं। इनमें चीनी, शहद, जड़ी-बूटियाँ और मसाले जैसे अदरक और लौंग भी हो सकते हैं। बहुत से प्रकार के अचार होते हैं जैसे मीठा अचार, खट्टा मीठा अचार, तीखा अच्छा और भी बहुत प्रकार के अचार हो सकते है।

अचार को तेल, सिरका, नमक के घोल, नींबू के रस आदि जैसे प्राकृतिक संरक्षण वाले पदार्थों का उपयोग करके संरक्षित किया जाता है। नमकीन पानी में डूबा हुआ खीरा दुनिया के पश्चिमी हिस्से में खाया जाने वाला एक बहुत ही प्रसिद्ध प्रकार का अचार है। 

अचार का इतिहास प्राचीन काल से है, जिसमें भोजन की बर्बादी को कम करने के लिए भोजन को प्राकृतिक रूप से संरक्षित किया जाता था। अचार का एक छोटा सा टुकड़ा स्वाद को ट्रिगर करने के लिए पर्याप्त होता है। इसे आम तौर पर रोटी, चपाती, चावल, चिप्स, दलिया आदि के साथ खाया जाता है।

आम का अचार, नींबू का अचार, गाजर का अचार, ककड़ी का अचार, किमची (पारंपरिक कोरियाई अचार), हंगेरियन अचार, कूल-एड अचार, आदि विभिन्न प्रकार के अचार होते हैं। विभिन्न देशों में विभिन्न प्रकार के अचार होते हैं जो स्वाद और तकनीक में भिन्न होते हैं।

ये भी पढ़े-

चटनी और अचार में मुख्य अंतर

  1. चटनी में आमतौर पर प्रीज़रवेटिव नही डाले जाते हैं। वही अचार में प्राकृतिक या कृत्रिम प्रीज़रवेटिव होते हैं।
  2. चटनी को पीस के बनाया जाता है इसीलिए ये थोड़ी गाढ़ी और चिकनी होने के साथ एक जैसी दिखती है। वही अचार में फलों या सब्जियों के टुकड़े होते है मसालों और तेल के साथ।
  3. चटनी को आमतौर पर या तो सील बट्टा की मदद से या इलेक्ट्रिक ब्लेंडर का उपयोग करके मिश्रित किया जाता है। वही अचार को धूप में सुखाया जाता है या इसमें पानी में भिगोने वाले प्रीज़रवेटिव होते हैं।
  4. कुछ चटनीयों को पका कर बनाया जाता है! वही अचार को बिना पकाएं बनाया जाता है।
  5. चटनी मूल रूप से भारत की डीश है। लेकिन इसे अब दुसरे देशो में अलग अलग तरीके से बनाया जाता है। वही अचार की उत्पत्ति भी भारत में ही हुई है, लेकिन अब हर देश के अपने-अपने प्रकार के अचार होते हैं।
  6. चटनी अचार की तुलना में कम समय तक चलती है। मतलब इनकी शेल्फ लाइफ कम है। वही अचार चटनी की तुलना में अधिक समय तक चलता है। यह सालों तक भी चल सकता है।
  7. चटनी अन्य पोषक तत्वों के साथ विटामिन से भरे हुए होते हैं और तेल का कम उपयोग इसे फैट-मुक्त बनाता है. वे एंटीऑक्सीडेंट में समृद्ध हैं। वही अचार फॉस्फोरस, आयरन, मैग्नीशियम, सोडियम और पोटेशियम में प्रचुर मात्रा में है।
  8. चटनी शरीर को सभी विटामिन, खनिज और अन्य सूक्ष्म पोषक तत्वों के साथ भी आपूर्ति करते हैं, जो स्वस्थ जीवन को बनाए रखने के लिए आवश्यक हैं! यह शरीर को एंटीऑक्सिडेंट की आवश्यक मात्रा के साथ प्रदान करता है। वही अचार के स्वास्थ्य लाभों में आवश्यक एंटीऑक्सिडेंट्स की आपूर्ति, प्रोबियोटिक जो आंत-अनुकूल एंटीबायोटिक्स हैं. पाचन में मदद करते हैं, एनीमिक लोगों में हीमोग्लोबिन के स्तर में सुधार करते हैं. कुछ अचार हैं, जो रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित करने में सहायता करते हैं और हेपेट्रोप्रोटेक्टीव गुण होते हैं.

ये भी पढ़े-

निष्कर्ष (Conclusion)

आज के इस आर्टिकल में हमने चटनी और अचार में अंतर (Chutney aur Achaar me Antar) को समझा, साथ ही ये भी समझा की इन्हें बनाने के लिए किस तरह के विभिन्न फलो और सब्जियों का उपयोग होता है और इन्हें किस विधि से बनाया जाता है।

अगर इसके बाद भी अगर आपके मन में कोई सवाल है तो मेरे कमेंट बॉक्स में आकर पूछे मैं आपके सवालों का जवाब अवश्य दूंगा तब तक के लिए धन्यवाद और मिलते हैं अगले आर्टिकल में! ऐसे और भी रोचक अन्तरो को जानने के लिए बने रहिये हमारे साथ antarjano.com पर।

Leave a Comment