6 Difference Between Zip Code and Postal Code in Hindi | ज़िप और पोस्टल कोड में अंतर

Difference Between Zip Code and Postal Code in Hindi, ज़िप और पोस्टल कोड में अंतर – हम सभी जानते हैं कि जब भी हम किसी को पोस्ट से या कूरियर से कुछ सामान भेजते है या ऑनलाइन वेबसाइट से शौपिंग करते है तो उसमे आपको सामने वाले का या अपने घर का एड्रेस या पता लिखना होता है या देना होता है, जिसके लिए विशिष्ट स्थान प्रदान किया जाता है। ये कोड नंबर या नंबर और अल्फाबेट लेटर्स का कॉम्बिनेशन हो सकता है जो भौगोलिक स्थिति, बिंदु या मार्ग के लिए प्रयोग किया जाता है। ये पोस्टल कोड हैं जिनका उपयोग डाक विभाग या कूरियर कंपनियों द्वारा पोस्टल मेल को आटोमेटिक छँटाई और त्वरित वितरण में किया जाता है।

हालाँकि, सभी देशों द्वारा पोस्टल कोड का उपयोग नहीं किया जाता है, अर्थात कुछ देश ऐसे भी हैं जो इसके बजाय ज़िप कोड का उपयोग करते हैं। ज़िप कोड का उद्देश्य भी पोस्टल कोड के समान होता है और इसका उपयोग संयुक्त राज्य अमेरिका और फिलीपींस जैसे देशों द्वारा किया जाता है।

ज़िप कोड और पोस्टल कोड के बीच बहुत थोडा ही अंतर होता है। हालाँकि, दोनों का उपयोग मेल को रूट करने और सॉर्ट करने के साथ-साथ मेल के परिवहन के समय और लागत को निर्धारित करने के लिए किया जाता है। इसके अलावा, ये कोड किसी अर्थव्यवस्था की जनसांख्यिकीय जानकारी एकत्र करने में भी सहायक होते हैं।

आज के लेख में हम निम्नलिखित बिन्दुओ के आधार इनके बीच के अंतर को समझायेंगे, तो बने रहिये हमारे साथ पोस्ट में अंत तक –

ज़िप और पोस्टल कोड में अंतर (Difference Between Zip Code and Postal Code in Hindi)

ज़िप कोड पोस्टल कोड
ज़िप कोड का फुल फॉर्म Zone Improvement Plan (ZIP) होता है पोस्टल कोड का कोई फुल फॉर्म नही होता है
ज़िप कोड कुछ और नहीं बल्कि संयुक्त राज्य अमेरिका में आमतौर पर उपयोग की जाने वाली एक कोडिंग प्रणाली है जो स्थान की पहचान करने और मेल की डिलीवरी में तेजी लाने में मदद करती है। पोस्टल कोड एक अल्फ़ान्यूमेरिक या न्यूमेरिक कोड है, जो उस स्थान को ट्रैक करने में मदद करता है जहां मेल-पीस को डिलीवर किया जाना है।
ज़िप कोड की शुरुआत 1963 में हुई थी पोस्टल कोड की शुरुआत 1959 में हुई थी
ज़िप कोड मुख्यत: संयुक्त राज्य अमेरिका और फिलीपींस में उपयोग में लाया जाता है पोस्टल कोड अमेरिका और फिलीपींस को छोड़कर अन्य सभी देश में उपयोग में लाया जाता है।
ज़िप कोड को प्रारंभ करने का उद्देश्य संदर्भ और स्थान की पहचान करना है पोस्टल कोड को प्रारंभ करने का उद्देश्य संदर्भ, स्थान की पहचान, जनगणना और रूट प्लानिंग करना है
ज़िप कोड केवल नंबर से मिल कर बना होता है पोस्टल कोड में नंबर और अल्फाबेट्स का कॉम्बिनेशन होता है, कभी-कभी विराम चिह्नों का उपयोग संख्याओं और अक्षरों के साथ भी किया जाता है।
ज़िप कोड की लम्बाई 5 डिजिट या 9 डिजिट की होती है 5 (ZIP), 9 (ZIP+4) पोस्टल कोड में 4 से 6 लेटर होते है

ज़िप कोड की परिभाषा (Definition of Zip Code)

ज़िप कोड शब्द ज़ोन इम्प्रूवमेंट प्लान का संक्षिप्त नाम है, जिसे यूनाइटेड स्टेट्स पोस्टल सर्विसेज (USPS) ने वर्ष 1963 में पेश किया था।

ज़िप कोड का उपयोग मुख्य रूप से क्षेत्रों को सरल भौगोलिक समूहों में विभाजित करके उस सटीक स्थान की पहचान करने के लिए किया जाता है जहां पार्सल, पैकेज और पत्र वितरित किए जाने हैं। यह तरीका मेल वितरण प्रणाली को गति देता है क्योंकि इससे मेल की छंटाई आसान हो जाती है। इन भौगोलिक समूहों में भिन्न भिन्न एड्रेस, व्यवसाय, लैंडमार्क्स आदि शामिल हो सकते हैं।

पूर्व में, यह पांच अंकों की संख्या थी, जिसे उस स्थान की बेहतर पहचान के लिए 9 अंकों की संख्या में बदल दिया गया है, जहां मेल पहुंचाना है।

ये भी पढ़े –

पोस्टल कोड की परिभाषा (Definition of Postal Code)

पोस्टल कोड को दुनिया के कई देशों द्वारा उपयोग की जाने वाली कोडिंग प्रणाली के रूप में परिभाषित किया जा सकता है ताकि मेल को स्वचालित रूप से छाँटने में सुविधा हो। यह संख्या की एक श्रृंखला है, या नंबर और लेटर्स का कॉम्बिनेशन है, जो डाक विभागों और कूरियर कंपनियों को सटीक स्थान और स्थान को पहचानने में मदद करता है, जहां मेल को डिलीवर किया जाना है।

पोस्टल कोड वितरण क्षेत्राधिकार (delivery jurisdiction) की सीमा को दर्शाता है, जिसका अर्थ है कि विभिन्न वितरण स्थलों के लिए एक पोस्टल कोड है, जो एक ही अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत आता है। इस उद्देश्य के लिए, पोस्टल कोड का क्षेत्रवार आवंटन होता है और इसलिए वे एक विशिष्ट भौगोलिक स्थिति से जुड़े होते हैं, हालांकि, प्रारूप और कार्यान्वयन एक राष्ट्र से दूसरे देश में भिन्न होता है।

तो, पोस्टल कोड पूरे देश, क्षेत्र, नगर पालिका, जिला, सड़कों, सैन्य इकाई आदि को कवर कर सकते हैं।

ज़िप कोड और पोस्टल कोड के बीच महत्वपूर्ण अंतर (Key Difference Between Zip Code and Postal Code)

ज़िप कोड और पोस्टल कोड के बीच के अंतर पर नीचे दिए गए बिंदुओं पर चर्चा की गई है:

  1. ज़िप कोड एक पोस्टल कोड को संदर्भित करता है, जिसका उपयोग कुछ देशों में डाक पते के साथ उस स्थान को निर्दिष्ट करने के लिए किया जाता है जहां मेल भेजा जाता है। दूसरी ओर, पोस्टल कोड डाक पते में उपयोग किए गए कोड को इंगित करता है, जो मेलों को उनके सटीक गंतव्य पर पहुंचाने के उद्देश्य से सॉर्ट करने में सहायता करता है।
  2. ज़िप कोड सिस्टम की शुरुआत यूनाइटेड स्टेट्स पोस्टल सर्विसेज (USPS) द्वारा 1963 में की गई थी, जबकि वर्ष 1959 में पोस्टल कोड सिस्टम की स्थापना की गई थी।
  3. ज़िप कोड मुख्य रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका और फिलीपींस में उपयोग किया जाता है। के विपरीत, बाकी देशों में पोस्टल कोड का उपयोग किया जाता है।
  4. ज़िप कोड का उद्देश्य क्षेत्रों को वर्गीकृत करना है ताकि मेलों को छाँटने में सुविधा हो, जिसके लिए यह उस स्थान की पहचान करता है जहाँ पर मेल भेजा जाता है। वही पोस्टल कोड का उपयोग स्थान की पहचान करने और संदर्भित करने, मार्ग योजना बनाने और जनसांख्यिकीय जानकारी एकत्र करने के उद्देश्य से किया जाता है।
  5. ज़िप कोड में केवल संख्याएँ होती हैं, जबकि डाक कोड में संख्याएँ या संख्याओं और अक्षरों का संयोजन होता है, और कभी-कभी संख्याओं और अक्षरों के साथ कोड में विराम चिह्न भी शामिल होते हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

दुनिया के कई देश डाक पते में या तो पोस्टल कोड या ज़िप कोड या किसी अन्य समान कोड का उपयोग करते हैं, चाहे इसे किसी भी नाम से पुकारा जाए। ये अक्सर मेल की आवाजाही और वितरण को आसान, तेज और कुशल बनाते हैं, जो न केवल डिलीवरी मैन के समय और प्रयासों को बचाता है और confusion को भी रोकता है, अगर एक शहर या कस्बे में दो क्षेत्रों को एक ही नाम से जाना जाता है तो।

आज के इस आर्टिकल में हमने ज़िप और पोस्टल कोड में अंतर (Difference Between Zip Code and Postal Code in Hindi) को समझा, अगर इसके बाद भी अगर आपके मन में कोई सवाल है तो मेरे कमेंट बॉक्स में आकर पूछे मैं आपके सवालों का जवाब अवश्य दूंगा तब तक के लिए धन्यवाद और मिलते हैं अगले आर्टिकल में! ऐसे और भी रोचक अन्तरो को जानने के लिए बने रहिये हमारे साथ antarjano.com पर।

Leave a Comment